नई दिल्ली. दिल्ली के राजेंद्र नगर में एक रेस्त्रां में हुई मुठभेड़ को लेकर दिल्ली पुलिस सवालों के घेरे में आ गई है. इस मामले में दिल्ली सरकार ने न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. सूत्रों के अनुसार जांच के आदेश का निर्णय तब किया गया, जब एनकाउंटर में मारे गए मनोज वशिष्ठ के परिवार के सदस्यों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से रविवार शाम उनके आवास पर मुलाकात की.

विशेष आयुक्त (विशेष इकाई) एसएन श्रीवास्तव ने शनिवार को कहा, ‘मनोज वशिष्ठ एक वांछित अपराधी था और उस पर इनाम था. हमें एक गुप्त सूचना मिली कि वह न्यू राजेंद्र नगर के सागर रत्ना रेस्त्रां आएगा. इस पर एक जाल बिछाया गया. जब वह मौके पर पहुंचा, उसने वहां पुलिस की मौजूदगी महसूस करके हमारे लोगों पर गोलीबारी शुरू कर दी. टीम ने आत्मरक्षा में गोली चलाई उसे एक गोली लगी और वह घायल हो गया.’ उन्होंने बताया कि उसे पास के एक अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया.

हालांकि, मनोज की पत्नी प्रियंका वशिष्ठ ने दिल्ली पुलिस पर अपने पति की हत्या का आरोप लगाया है. प्रियंका का आरोप है कि पुलिस ने 3 लाख रुपए मांगे थे, 60 हजार रुपए हमने दिए. प्रियंका ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी पर भी आरोप लगाए हैं. उनके मुताबिक अप्रैल में भी पुलिस ने उन्हें परेशान किया. उन्होंने सीसीटीवी फुटेज सार्वजनिक करने की मांग की.