पटना. बिहार में 12 वीं कक्षा के छात्र आदित्य की हत्या के बाद उसके परिवार वालों ने पुलिस पर मामले की जांच में लापरवाही बरतने के आरोप लगाए हैं. परिवार वालों का कहना है कि पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद आदित्य के खून से सने कपड़े सड़क पर फेंक दिए थे.
 
परिवार वालों के इन आरोपों के बाद पुलिस ने कपड़ों को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है. बता दें कि आदित्य के परिजनों को उसके खून से सने कपड़े पोस्टमार्टम रूम के पास पड़े मिले थे. कपड़े मिलने के बाद परिजनों ने कपड़ों को घर ले जा लिया था.
 
कपड़े पड़े मिलने के बाद आदित्य की मां चंदा सचदेवा ने कहा है कि बिहार पुलिस के ऊपर से भरोसा उठ गया है. चंदा ने अपने बेटे की मौत की सीबीआई जांच की मांग की है. पहले तो एफआईआर दर्ज करने में 26 घंटे की देरी, फिर पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने में देरी और अब खून से सने कपड़े सड़क पर पड़े मिलने से परिवार वालों का धैर्य टूट गया है, इसलिए अब वह मामले की सीबीआई जांच चाहते हैं.
 
आदित्य के पिता श्याम सचदेवा का कहना है कि राज्य की पुलिस मामले को गंभीरता से नहीं ले रही है. पूरे मामले में लीपापोती की जा रही है. 
 
बता दें कि जेडीयू एमएलसी मनोरमा देवी के बेटे रॉकी के ऊपर आदित्य की हत्या का आरोप है. पुलिस ने स्पीडी ट्रायल कराकर सजा दिलवाने का मंगलवार (10 मई) को वादा किया है.