पटना. बिहार में भारतीय जनता पार्टी के नेता सुशील कुमार मोदी ने आदित्य की मौत पर जेडीयू की एमएलसी मनोरमा देवी पर निशाना साधते हुए कहा है कि उन्हें अभी तक गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है. बता दें कि मनोरमा देवी के बेटे रॉकी को पुलिस ने आदित्य को गोली मार कर उसकी हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है.
 
मोदी ने इसी मामले पर कहा कि जिस वक्त आदित्य की हत्या हुई थी उस वक्त रॉकी की कार में तीन लोग बैठे थे. एक रॉकी था, दूसरा बॉडीगार्ड था, लेकिन तीसरा व्यक्ति कौन था इसका अभी कुछ पता नहीं चला है. पुलिस ने उसे गिरफ्तार क्यों नहीं किया. उन्होंने कहा कि इस तीसरे व्यक्ति के मामले में शक है कि वह कोई वीवीआईपी है, जिसे पुलिस बचाने की कोशिश कर रही है. 
 
मोदी ने रॉकी की गिरफ्तारी पर कहा कि आरोपी की गिरफ्तारी जनता और विपक्ष के दबाव में की गई थी. उन्होंने कहा कि आरोपी एसपी के दफ्तर से महज 20 किलोमीटर दूर आरोपी छिपा था, फिर पुलिस को उसे ढूंढने में दो दिन क्यों लग गए? मोदी ने  रॉकी के पिता और पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष बिंदी यादव पर हमला बोलते हुए कहा, बिंदी के खिलाफ कुल 17 केस दर्ज हैं, जिनमें से 10 को बंद कर दिया गया है. इस बात से ही यह समझा जा सकता है कि बिंदी यादव और उनके परिवार का पूरे बिहार में क्या प्रभाव है और इस केस में भी इस बात का प्रभाव पड़ सकता है’.
 
मोदी ने बिहार की नीतीश सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि नीतीश सरकार के सत्ता में आने के बाद से पिछले 5 महीनों में कुल 12 विधायकों के खिलाफ रेप, मर्डर जैसे जघन्य अपराधों के मामले दर्ज किए जा चुके हैं.
 
शराब मिलने पर मनोरमा देवी के खिलाफ FIR क्यों नहीं: मोदी
 
सुशील मोदी ने मनोरमा देवी के घर शराब मिलने के मामले में हमला बोलते हुए कहा कि बिंदी यादव के खिलाफ तो एफआईर दर्ज की गई, लेकिन मनोरमा देवी के खिलाफ क्यों नहीं. एमएलसी के खिलाफ इस मामले में मुकदमा क्यों नहीं हुआ.
 
बता दें कि शनिवार की देर शाम आदित्य अपने दोस्तों के साथ बोधगया से लौट रहा था, इसी दौरान उसने एमएलसी के बेटे रॉकी की गाड़ी को ओवरटेक किया जिसके बाद रॉकी ने आदित्य की गाड़ी पर गोली चलाई, जिससे मौके पर ही आदित्य की मौत हो गई.