लखनऊ. डीजीपी जावीद अहमद ने बिजनौर में एनआईए के डीएसपी तंजील अहमद की हत्या की घटना के मुख्य अभियुक्त मुनीर पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है. इससे हत्याकांड का अप्रत्यक्ष रूप से खुलासा माना जा रहा है. पुलिस ने यह मान लिया है कि तंजील अहमद की हत्या मुनीर ने ही की है.

डीजीपी अहमद ने शुक्रवार को बिजनौर से वापस लौटने के बाद यह घोषणा की. मुनीर पर अलीगढ़ के सिविल लाइंस थाने में हत्या व हत्या के प्रयास समेत छह गंभीर मुकदमे दर्ज हैं. मुनीर पुत्र मेहताब मूल रूप से बिजनौर के स्यौहारा थाना क्षेत्र स्थित सहसपुर कस्बे में आने वाले मौलवियान मोहल्ले का रहने वाला है.

तंजील भी मौलवियान मोहल्ले के ही रहने वाले थे. तंजील की दो मार्च को रात में हत्या कर दी गई थी, जबकि उनकी पत्नी को गाली मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया गया था.

इस मामले में हत्या व हत्या के प्रयास का मुकदमा स्यौहारा थाने में दर्ज किया गया है. डीजीपी शुक्रवार को सुबह 11.30 बजे हेलीकॉप्टर से बिजनौर पहुंचे थे. वहां उन्होंने पुलिस व एनआईए के अफसरों के साथ बैठक के साथ स्व. तंजील अहमद के परिवारीजनों के साथ मुलाकात भी की थी.

डीजीपी ने पत्रकारों को बताया कि तंजील हत्याकांड की जांच अभी जारी है. अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है. हालांकि मुनीर को हत्या का मुख्य अभियुक्त मानते हुए उसकी गिरफ्तारी पर इनाम घोषित कर दिए जाने से पुलिस की जांच की दिशा पूरी तरह स्पष्ट हो गई है.