पटना. कैमूर में एसपी के पद पर तैनाती के दौरान महिला पुलिस अधिकारी के यौन शोषण के आरोपों में फंसे 2009 बैच के आईपीएस अधिकारी पुष्कर आनंद के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया गया है.

पुष्कर के विरुद्ध कैमूर की तत्कालीन डीएसपी निर्मला ने उत्पीड़न का मामला दर्ज़ करवाया था.  जांच के दौरान आईपीएस पुष्कर पर आरोप सही साबित हुए हैं.

निगरानी अन्वेषण ब्यूरो की आईजी अनुपम निलेकर चंद्रा की अध्यक्षता वाली आईपीएस अधिकारियों की तीन सदस्यीय जांच कमेटी ने पुष्कर को दोषी पाते हुए उनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही शुरू करने की अनुशंसा की थी.

रिपोर्ट में बताया गया है कि उस समय कैमूर की एसडीपीओ रही निर्मला कुमारी ने जांच कमेटी के सामने जो साक्ष्य पेश किए हैं, उससे साबित होता है कि एसपी पुष्कर आनंद ने शादी के नाम पर उनका यौन उत्पीड़न किया है.

जब पुष्कर आनंद से पूछताछ की गई तो उन्होंने भी आरोपों को स्वीकार किया, लेकिन शादी करने से इन्कार की वजह दोनों की जन्मकुंडली का मेल नहीं खाना बताया.