नई दिल्ली. दिल्ली के सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल और टीचर्स अब जल्द ही ट्रैनिंग के लिए कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी जाएंगे. दिल्ली सरकार 90 प्रिंसिपलों को कैम्ब्रिज भेज रही है. इस पर उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का कहना है कि दिल्ली के प्रिंसिपल्स और टीचर्स बेहद टैलेंटेड हैं. लेकिन उनमें लीडरशिप क्वालिटी विकसित करने की जरूरत है.
 
बता दें कि इस संबंध में कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के दो अधिकारियों जयदीप प्रभु और हारोल्ड ची ने दिल्ली सचिवालय में उप-मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया से मुलाकात भी की है.
 
ट्रेनिंग के लिए बजट 102 करोड़ 
सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल्स और टीचर्स की राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ट्रेनिंग के लिए 102 करोड़ रुपये का बजट रखा गया है. जो कि पिछले साल के 9 करोड़ रुपये की तुलना में 11 गुना अधिक है. इसका लक्ष्य टीचर्स ट्रेनिंग पर फोकस है. सबसे पहले 90 प्रिंसिपल्स को 3 बैच में कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी भेजा जाएगा. एजुकेशन लीडरशिप प्रोग्राम की यह ट्रेनिंग 10 दिन की है.
 
प्रोग्राम के तहत दी जाएगी स्पेशल ट्रैनिंग
उप-मुख्यमंत्री के साथ बैठक के दौरान कैम्ब्रिज के अधिकारियों ने बताया कि ट्रेनिंग के लिए जाने वाले प्रिंसिपल्स को केवल क्लासरूम ट्रेनिंग नहीं दी जाएगी. बल्कि उन्हें वहां के विभिन्न स्कूलों में ले जाया जाएगा. जिससे वे वहां के सिस्टम को समझ सकें. इसके अलावा उन्हें वहां के सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल्स और टीचर्स के साथ संवाद का भी मौका मिलेगा.
 
अन्य यूनिवर्सिटी भी भेजे जाने का विचार
कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी आईएएस अधिकारियों को भी लीडरशिप ट्रेनिंग देती है. कैम्ब्रिज के अलावा सरकारी स्कूलों के प्रिंसिपल्स और टीचर्स को आईआईटी, आईआईएम के साथ-साथ ऑक्सफोर्ड, हारवर्ड, एमआईटी जैसे अन्य यूनिवर्सिटी में भी भेजा जाएगा.