तिनसुकिया. असम चुनाव में प्रचार करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि असम में मेरी लड़ाई मुख्यमंत्री तरुण गोगोई से नहीं गरीबी से है. उन्हें कहा कि मैं बुजुर्ग गोगोई से आशीर्वाद चाहता हूं लेकिन मैं राज्य में फैल रही बर्बादी से लड़ूंगा.

तिनसुकिया रैली में उन्होंने कहा कि सर्बानंद केंद्र में काबिल मंत्री हैं. बीजेपी जीती तो वह असम के मुख्यमंत्री बनेंगे. इसमें मेरा नुकसान होगा, लेकिन असम का भला होगा. पीएम मोदी ने कहा कि जब वह चाय बेचा करते थे तब लोग उनसे असम की चाय पीकर ताजगी महसूस करते थे.

उन्होंने कहा कि इस वजह से मुझ पर असम का कर्ज है. उन्होंने कहा गरीबों को शिक्षा, नौजवानों को आमदनी और बुजुर्गों को दवाई मुहैया कराकर असम के हालात बदले जाएंगे. मोदी ने रैली में आए लोगों से कहा कि तिनसुकिया को सही मायनों में सुखिया बनाना हमारा संकल्प है. असम के हर गांव तक बिजली पहुंचाई जाएगी.

उन्हेंने कहा कि आजादी के वक्त असम देश के सबसे समृद्ध राज्यों में था. आज उसकी ऐसी हालत क्यों हो गई है. असम के चाय बगान पूरे देश को उर्जावान करते हैं. मोदी ने लोगों से कहा कि 60 साल से अधिक सालों तक कांग्रेस को आपने उम्मीदों के साथ वोट दिया, लेकिन नतीजा क्या निकला? आप एक बार बीजेपी को सरकार बनाने का मौका दीजिए.

असम में आनंद लाने का काम हमारे सर्बानंद करेंगे. पांच सालों में असम को ऐसा बनाएंगे कि लोग बच्चों को ए फॉर असम पढ़ाकर खुश होंगे.

जोरहाट में रात बिताएंगे पीएम मोदी

शनिवार की रात पीएम मोदी जोरहाट में ही ठहरेंगे. रविवार को भी वह कई चुनावी सभाओं संबोधित करेंगे. चुनावी सभाओं में पीएम मोदी के साथ सर्बानंद सोनवाल मौजूद हैं. बीजेपी ने उन उन्हें असम में सीएम पद का उम्मीदवार घोषित किया है. सोनोवाल पीएम मोदी की सभी रैलियों में मौजूद रहेंगे.

असम में दो चरणों में होगा चुनाव

असम में चुनावी प्रचार अपने चरम पर है. असम में कुल 126 विधानसभा सीटें हैं और यहां दो चरणों में 4 और 11 अप्रैल को मतदान होगा. 19 मई को मतगणना होगी.