चंडीगढ़. सरकार के साथ जाट नेताओं की हुई बैठक में जाट नेताओं ने आरक्षण पर 31 मार्च तक का अल्टीमेटम सरकार को दिया है. जाट आरक्षण संघर्ष समिति के नेताओं का कहना है कि बातचीत के बाद ही वो आगे की रणनीति तय करेंगे और तब तक आंदोलन स्थगित रहेगा.

वहीं, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने हरियाणा में जाटों के आंदोलन के दोबारा शुरू होने की आशंका को खारिज करते हुए आज विश्वास व्यक्त किया कि इसका कोई समाधान निकाल लिया जाएगा.

सिंह ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से फोन पर बात की और स्थिति की समीक्षा की. यहां एक समारोह से इतर संवाददाताओं से गृह मंत्री ने कहा, ‘मैंने हरियाणा के मुख्यमंत्री से बात की है. किसी बात की चिंता करने की जरूरत नहीं है. मुझे विश्वास है कि इसका कोई समाधान निकाल लिया जाएगा.

हरियाणा में माहौल ठीक है. दरअसल, जाट नेता इसी सत्र में आरक्षण से जुड़े बिल को हरियाणा विधानसभा में लाने की मांग कर रहे हैं. आरक्षण को लेकर हिंसक झड़प में 30 लोगों की जान चली गई थी.

सोनीपत में धारा 144

पिछली बार की तरह इस बार जाट आरक्षण की आग पूरे राज्य में न फैले इसके लिए प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है. सोनीपत में धारा 144 लगा दी गई है. झज्जर, सोनीपत, रोहतक में मोबाइल इंटरनेट पर बैन लगा दिया गया है. जींद के संवेदनशील इलाकों में लोगों को एक समूह में जमा होने पर पाबंदी लगा दी गई है.