नई दिल्ली. केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के इस्तीफे की मांग को लेकर आज राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ. कांग्रेस और विपक्षी सदस्यों ने गडकरी की कंपनी में कथित अनियमितता को लेकर उनके इस्तीफे की मांग की. दरअसल भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने एक रिपोर्ट  में गडकरी का नाम पुर्ति सखर कारखाना लिमिटेड के एक प्रमोटर या निदेशक के रूप में लिया है, जिसे नियमों का उल्लंघन करते हुए इंडियन रिन्युबल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी ने 84.12 करोड़ रुपये ऋण दिया था.

विपक्षी दल समय समय पर हमारे मंत्रियों के इस्तीफे की मांग करते रहे हैं, अब नितिन गडकरी को इस्तीफा देना चाहिए: कांग्रेस  सांसद, शांताराम ऩाईक

शून्यकाल के दौरान कांग्रेस सांसद शांताराम नाईक ने उठाया और कहा कि गडकरी को इस्तीफा दे देना चाहिए. नाईक ने कहा, “विपक्षी दल समय समय पर हमारे मंत्रियों के इस्तीफे की मांग करते रहे हैं, अब नितिन गडकरी को इस्तीफा देना चाहिए.’ केंद्रीय संसदीय कार्य राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि यह आरोप आधारहीन है. हंगामे के बीच उपसभापति पी.जे.कुरियन ने कार्यवाही 10 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई.