गुवाहाटी. असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने कहा कि राज्य के साथ केंद्र के सौतेले व्यवहार को कांग्रेस विधानसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी. उन्होंने कहा, “हमारी लड़ाई एनडीए की गलत नीतियों और असम तथा इस क्षेत्र के अन्य भागों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए जा रहे अन्याय के खिलाफ होगी.” उन्होंने कहा कि सर्बानंद सोनोवाल और असम से अन्य बीजेपी सांसद केंद्र सरकार के समक्ष असम के मुद्दों को उठाने में विफल रहे हैं. उन्होंने कहा, “इसलिए अगर असम के लोगों के अधिकरों की लड़ाई हम लोग नहीं लड़ेंगे तो और कौन लड़ेगा.” 
 
‘BJP को सिर्फ सत्ता चाहिए’
गोगोई ने कहा, “यह बात लोगों को बताएंगे और कहेंगे कि केंद्र की गलत नीतियों और अन्याय से लड़ने की क्षमता हम लोगों में है. हम लोग विगत दो सालों से लड़ रहे हैं और आगे भी लड़ते रहेंगे.” उन्होंने कहा कि असम गण परिषद और बीजेपी के बीच गठबंधन से लोगों को पता चल गया है कि दोनों पार्टियों को सिर्फ सत्ता चाहिए क्योंकि इनकी विचारधाराएं अलग-अलग हैं और दोनों के बीच न्यूनतम साझा कार्यक्रम भी नहीं बना है. हाल यह है कि गठबंधन होने के बावजूद सीटों का बंटवारा भी नहीं हुआ है. 
 
‘मैंने अच्छा काम किया’
मुख्यमंत्री ने कहा, “मुझे विश्वास है कि मेरी सरकार ने पिछले 15 सालों में अच्छा काम किया है और लोग मेरी पार्टी के पक्ष में वोट देकर हम लोगों को दोबारा सत्ता सौपेंगे.”
 
‘BJP नेताओं को दी शुभकामनाएं’
उन्होंने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सर्बानंद सोनोवाल और सांसद कामख्या प्रसाद ताशा को शुभकामनाएं दीं. सोनोवाल, गोगोई के गृह जिले के माजुली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं. गोगोई स्वयं तिताबोर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं और उनके खिलाफ बीजेपी ने ताशा को उतारा है. उन्होंने ताशा को भी शुभकमाएं दीं.