जम्मू. पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर का मुख्यमंत्री बनना उनकी प्राथमिकता नहीं है. वह पार्टी को मजबूत बनाना चाहती हैं. उन्होंने यह भी कहा कि उनका लक्ष्य जम्मू-कश्मीर में शांति और विकास से जुड़े अपने दिवंगत पिता मुफ्ती मुहम्मद सईद के सपने को आगे बढ़ाना है. महबूबा मुफ्ती यहां पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रही थीं. 
 
राज्य में भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन सरकार का नेतृत्व करने के संदर्भ में उन्होंने कहा, “मैं नहीं जानती कि कल क्या होगा. मैं एक बात निश्चित रूप से जानती हूं कि यदि मेरी पार्टी मुफ्ती साहब के सपनों को पूरा करने में लगातार लगी रही तो राज्य की जनता को लाभ होगा.” 
 
उन्होंने कहा, “मैं मुख्यमंत्री बनूं या नहीं, पार्टी को जिंदा रखना है. मुफ्ती साहब के लिए यही सबसे बड़ी श्रद्धांजलि होगी. उन्होंने इस पार्टी की स्थापना अपने लिए नहीं बल्कि जनता के हित के लिए की थी.” मुफ्ती ने कहा कि बीमारी के दौरान उनके पिता ने उन्हें अपनी संपत्ति के बारे में नहीं बल्कि पार्टी को मजबूत करने के बारे में बताया. 
 
बता दें कि मुफ्ती सईद की जब सात जनवरी को मौत हुई तभी से जम्मू-कश्मीर में निर्वाचित सरकार नहीं है. राज्य में राज्यपाल शासन लागू है. 
 
भारत-पाकिस्तान के रिश्ते के बारे में महबूबा ने कहा कि दोस्ती बनी रहे और टकराव नहीं हो, यही दोनों देशों के रिश्ते को आगे बढ़ाने का रास्ता है. इसी से जम्मू-कश्मीर में स्थाई शांति आ सकती है. उन्होंने कहा, मुफ्ती सईद ने सीमा के दोनों तरफ के लोगों के बीच व्यापार, संपर्क और भारत-पाकिस्तान के तनाव को समाप्त करने का सपना देखा था.