पटना. नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी फरार आरजेडी विधायक राजबल्लभ यादव के घर को कुर्क कर लिया गया. यह जानकारी पुलिस ने दी. जिले के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि नवादा जिला न्यायालय के आदेश के एक दिन बाद जिले में विधायक के पैतृक गांव इंगलिश पथरा स्थित संपत्ति को कुर्क करने लिए पुलिस टीम रवाना की गई. इसमें नवादा और पड़ोसी जिले के पुलिसकर्मी शामिल थे. 
 
जमानत याचिका पहले ही खारिज
इस मामले में विधायक के चार सहयोगियों को गिरफ्तार किया जा चुका है. स्वयं विधायक राजबल्लभ यादव 9 फरवरी से फरार हैं. जिला सत्र न्यायालय ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका पहले ही खारिज कर दी है.
 
यह आशंका थी कि कुर्की की कार्रवाई के दौरान विधायक के समर्थक बाधा उत्पन्न कर सकते हैं. इसलिए उनके घर के पास बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए थे. इनमें केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और त्वरित कार्रवाई बल के जवान भी शामिल थे.
 
कई जगह हुई छापेमारी
पीड़ित नाबालिग लड़की नालंदा जिले की रहने वाली है. उसकी शिकायत पर अदालत ने विधायक के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद से ही यादव फरार चल रहे हैं. उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस जगह-जगह छापेमारी कर रही है. 
 
‘कब तक रहेंगे फरार’
विधानसभा में कानून व्यवस्था पर पूछे गए प्रश्न के जवाब में शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आरोपी विधायक के बारे में कहा था, “कब तक वह फरार रहेंगे? कब तक? वह भाग नहीं सकते. अंतत: उन्हें कानून के कटघरे में खड़ा होना ही पड़ेगा.”  आरजेडी ने पिछले सप्ताह ही नवादा क्षेत्र से विधायक राजबल्लभ यादव को पार्टी से निलंबित कर दिया था. 
 
क्या है मामला?
बता दें पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार सुलेखा देवी नाम की एक महिला, नाबालिग लड़की को नालंदा जिले में 6 फरवरी को एक अज्ञात जगह पर ले गई. वहां पहले उसे जबरन शराब पिलाई गई उसके बाद एक व्यक्ति ने उसके साथ दुष्कर्म किया. बाद में इसकी पहचान राजबल्लभ यादव के रूप में हुई. लड़की ने बताया कि दुष्कर्म के बाद महिला ने उसे 30,000 रुपये दिए थे.