चंडीगढ़. हरियाणा के पुलिस महानिदेशक ने कहा है कि जाट आंदोलन के दौरान राज्य में पिछले सप्‍ताह मुरथल हाईवे पर महिलाओं के साथ कथित तौर पर गैंगरेप किए जाने की खबर की अब तक पुष्टि नहीं हुई है.

डीजीपी ने कहा कि मुरथल मामले को लेकर अभी तक कोई गवाह पुलिस के समक्ष नहीं आया है. अगर मीडिया के पास इस बारे में कोई भी जानकारी है तो हमें दे सकता है. सूचना देने वाले शख्‍स की पहचान गुप्‍त रखी जाएगी.

उन्‍होंने आश्‍वासन दिया कि इस बारे में कोई भी सूचना मिलते ही समुचित कार्यवाही की जाएगी. उन्होंने बताया कि जाट आरक्षण के मुद्दे पर राज्य में हुई हिंसा के मामले में अब तक 133 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है जबकि 700 से अधिक केस दर्ज किए गए हैं.

इससे पहले मीडिया में आई कुछ खबरों में कहा गया था कि सोनीपत जिले में नेशनल हाईवे पर कुछ वाहनों को रोककर (जिनमें बसें भी शामिल थीं ) इनमें सवार महिलाओं के साथ खेतों में ले जाकर सामूहिक दुष्‍कर्म किया गया. इस बीच, हरियाणा में जनजीवन तेजी से सामान्य हो रहा है. पुलिस ने हिंसा प्रभावित जिलों में जाट आंदोलन के दौरान संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने वाले उपद्रवियों के बारे में लोगों से फोटो, वीडियो या अन्य सबूत देने को कहा गया है.