भोपाल. मध्य प्रदेश सरकार की ओर से वित्त मंत्री जयंत मलैया ने आज विधानसभा में 2016-17 का बजट पेश कर दिया है. मलैया ने विधानसभा 1.58 लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किया है. जबकि मध्यप्रदेश सरकार का साल 2016-17 के लिए बजट घाटा 118 करोड़ रुपए रहा. प्रदेश सरकार ने अपना खजाना भरने के लिए टैक्स में एक बार फिर बढ़ोतरी कर दी है.
 
मलैया ने तीसरी बार बजट पेश किया है. मलैया ने अपने भाषण में कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार की हालत ठीक नहीं है. इसका असर पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था पर हुआ है. राज्य का ऋण अब आधा रह गया है. बता दें कि मलैया से पहले वित्त मंत्री रहे राघवजी के नाम सात बार बजट पेश करने का रिकॉर्ड दर्ज है. 
 
क्या- क्या हुआ सस्ता
बैटरी से चलने वाली कार और रिक्शा
नए मल्टीप्लेक्स में मनोरंजन कर में छूट
सोया मिल्क और आर्गेनिक पेस्टिसाइड
इंडक्शन चूल्हा, बर्तन
हेवी लोडिंग वाहनों पर एक फीसदी वैट कम
38 कृषि यंत्र
 
क्या- क्या हुआ महंगा
प्लास्टिक का सामान, गैस, गीजर
स्टांप फीस बढ़ाई गई
साइकिल, कांच का सामान
आर्मी कैंटीन से बिकने वाली कार
स्कूल और स्टेशनरी का सामान
ऑनलाइन शॉपिंग हुई महंगी
इसके अलावा प्रदेश सरकार ने ऑनलाइन शॉपिंग पर भी टैक्स लगाने का फैसला किया है.जिस वजह से अब लोगों को घर बैठे मिल रहा सामान महंगा पड़ेगा. बता दें कि इन दिनों मध्यप्रदेश में भी ऑनलाइन शॉपिंग का ट्रेंड बढ़ गया है. लेकिन इससे प्रदेश सरकार को किसी तरह का कोई फायदा नहीं पहुंच रहा है. उल्टा कारोबारियों को नुकसान हो रहा है. जिससे सरकार को राजस्व में नुकसान हो रहा है.