चेन्नई. तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता ने रेल बजट पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि यह बजट उनके राज्य की अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतरा है. हालांकि, उन्होंने बजट के कुछ प्रस्तावों का स्वागत किया. जयललिता ने कहा, “कुल मिलाकर यह बजट तमिलनाडु के लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करने में नाकाम रहा है.”
 
लेकिन, उन्होंने दिल्ली-चेन्नई फ्रेट कॉरीडोर निर्माण, चेन्नई में रेल ऑटो हब बनाने और नागपट्टिनम एवं वेलंकन्नी रेलवे स्टेशनों के उन्नयन करने की घोषणा करने के लिए रेल मंत्री सुरेश प्रभु को धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि खड़गपुर-विजयवाड़ा कॉरीडोर का विस्तार तमिलनाडु में तुतीकोरिन तक होना चाहिए.
 
जयललिता ने कहा कि यात्रियों की सुविधाओं के बारे में हुई प्रभु की घोषणाओं से ऐसा लगता है कि यह बहुत हद तक सरकारी-निजी सहभागिता के परवान चढ़ने पर निर्भर करती है. साथ ही शिकायतों के निपटारे को भी डिजिटल करने की दिशा में प्रयास किए गए हैं. उन्होंने कहा कि सभी लोग न तो डिजिटल साक्षर हो सकते हैं, न ही सबके पास स्मार्ट फोन ही हो सकते हैं. इसलिए शिकायत निपटारा और सेवाओं की गुणवत्ता को पूर्णत: डिजिटल नहीं किया जा सकता है, इसे केवल सोशल मीडिया पर सक्रिय लोगों तक ही सीमित नहीं किया जा सकता.