रोहतक. जाट आंदोलन को लेकर रोहतक पहुंचे सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि यह कोई छोटी-मोटी घटना नहीं है. उन्होंने कहा कि इस घटना के पीछे कुछ ताकतें और साजिश है, उसकी जांच होगी.

सीएम ने कहा कि जानमाल का बहुत नुकसान हुआ है. दंगाइयों और उपद्रवियों की पहचान करके उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी. इसके अलावा जो सरकारी अधिकारी और पुलिसवाले इस विरोध-प्रदर्शन के दौरान काम में कोताही बरतने के दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी.

सीएम ने भरोसा दिलाया कि जिस किसी का भी जितना भी नुकसान हुआ है, उसकी पूरी भरपाई होगी, कोई कोताही नहीं बरती जाएगी. जहां तक नौकरी का सवाल है तो जो गरीब लोग हैं, उनके लिए भी नौकरी का प्रावधान किया जाए.

सीएम खट्टर जब भाषण दे रहे थे तो लोगों ने उनका विरोध किया, जिसके चलते उन्हें बीच में ही भाषण छोड़ना पड़ा. खट्टर और दो अन्य मंत्रियों को दिल्ली तलब किया गया है. वे केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू से मिलेंगे.

19 लोगों को हो चुकी है मौत

उधर, हरियाणा में जाटों का हिंसक आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है. आरक्षण की मांग माने जाने के बावजूद कई जगहों पर आंदोलनकारियों का उपद्रव जारी है. कई जगहों पर उपद्रवी डटे हुए हैं. अब तक की हिंसा में 19 लोगों की मौत हो चुकी हैं.