नई दिल्ली. विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने कहा कि देशद्रोहियों का साथ देने वाले भी कम देशद्रोही नहीं हैं. इसके साथ ही विहिप ने सभी राजनीतिक दलों से अपील है कि वे विरोध की राजनीति को देश तोड़ने की दिशा में न ले जाएं.
 
विहिप के अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री डॉ. सुरेन्द्र जैन ने कहा कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में देशद्रोही प्रदर्शन व उसमें लगे नारों से देश की जनता जान यह चुकी है कि कौन देशद्रोही है और कौन उनके समर्थक हैं.
 
बयान के मुताबिक, जेएनयू जाकर देशद्रोहियों को समर्थन देकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी यह स्पष्ट कर दिया है कि सोनिया-राहुल की कांग्रेस महात्मा गांधी के कांग्रेस के विचारों की विपरीत दिशा में जा रही है. महात्मा गांधी की कांग्रेस ने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी, परंतु आज की कांग्रेस देशद्रोहियों के लिए लड़ाई लड़ रही है.