मुंबई. वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अमेरिकी जेल से गवाही दे रहे पाकिस्तानी मूल के अमेरिकी आतंकवादी डेविड कोलमैन हेडली ने शुक्रवार को बताया कि आईएसआई की नजर मुंबई के संवेदनशील भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (बार्क) के स्टाफ पर थी. वह उनसे ‘गोपनीय जानकारी’ निकलवाना चाहता था.
 
बता दें कि हेडली (56) शुक्रवार को लगातार पांचवें दिन वीडियो कांफ्रेंसिंग से विशेष टाडा अदालत के न्यायाधीश जी.ए. सनाप के समक्ष गवाही दे रहा है. उसने इस दौरान विशेष लोक अभियोजक उज्जवल निकम को बताया कि उसने मुंबई में स्थित बार्क के मुख्यालय के बारे में जानकारी जुटाई व उसकी वीडियोग्राफी भी की थी.
 
उसने कहा, “आईएसआई गोपनीय जानकारी प्राप्त करने के लिए भविष्य के लिए बार्क के कर्मचारियों की भर्ती करना चाहता था.”
 
हेडली ने बार्क से संबंधित वीडियो लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के साजिद मीर और आईएसआई के मेजर इकबाल को दी थीं. इसके अलावा उसने दादर इलाके में स्थित मशहूर सिद्धि विनायक मंदिर व नौसेना के हवाईअड्डे के बारे में भी जानकारी जुटाई थी.