नई दिल्ली. कश्मीरी पंडितों ने कश्मीर घाटी में अपने पुनर्वास की मांग को लेकर रविवार को यहां जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन किया. विरोध प्रदर्शन में जुटे हजारों कश्मीरी पंडितों ने ‘निर्वासन के 25 सालों और इंकार के 25 सालों का विरोध’ किया और अलगाववादियों के खिलाफ नारेबाजी की. एक प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘हम कश्मीर में वापस जाना चाहते हैं. हमें सुरक्षा मुहैया कराना सरकार की जिम्मेदारी है. हम हर दिन कश्मीरी पंडितों के बारे में प्रस्ताव सुनते रहते हैं, लेकिन सरकार हमसे नहीं पूछती है कि हम क्या चाहते हैं. मैं भारत सरकार से निवेदन करता हूं कि हमारे बारे में फैसला लेने से पहले हमसे पूछे कि हम क्या चाहते हैं?’

प्रदर्शनकारी ने कहा कि अगलगाववादी सैयद अली शाह गिलानी को गिरफ्तार किया जाना चाहिए. प्रदर्शनकारियों ने कहा कि सरकार को कश्मीरी पंडितों के लिए कोई योजना बनाते समय उनका मत जानना चाहिए. नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कल बयान दिया था कि वो कश्मीरी पंडितों के लिए घाटी में अलग से टाउनशिप बनाए जाने का विरोध करेंगे. अप्रैल में जम्मू विधानसभा में यह मुद्दा उठा था कि केंद्र सरकार ने कश्मीरी पंडितों के लिए अलग टाउनशिप का प्रस्ताव रखा है. इसके विरोध में विपक्षी दल कांग्रेस और प्रांतीय नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के विधायकों ने विधानसभा में जमकर हंगामा किया था. हालांकि इस दौरान मुफ्ती ने जवाब में कहा था कि विस्थापित कश्मीरी पंडितों के लिए अलग से सेटेलाइट टाउनशिप बनाने का कोई प्रस्ताव नहीं है.

IANS