पटना. लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान ने बुधवार को बिहार में कानून व्यवस्था की स्थिति में गिरावट आने का आरोप लगाते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की मांग की है. 
 
बिहार के जमुई से सांसद ने बुधवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि बिहार में जब से महागठबंधन की सरकार सत्ता में आई है, तभी से कानून व्यवस्था की स्थिति दयनीय हो गई है. बिहार में कोई भी व्यक्ति खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा है. 
 
लोजपा अध्यक्ष रामविलस पासवान के पुत्र चिराग ने कहा कि हम लोगों ने निर्णय लिया था कि छह महीने तक सरकार के खिलाफ कुछ नहीं बोलेंगे, परंतु अफसोस के साथ कहना पड़ता है कि न चाहते हुए उनकी पार्टी को इस सरकार के ढाई महीने के बाद ही गिरती हुई विधि व्यवस्था को लेकर टिप्पणी करने और आंदोलन छेड़ने पर विवश होना पड़ा है. 
 
चिराग ने कहा कि बिहार में लगातार घट रही अपराधिक घटनाओं के विरोध में उनकी पार्टी 11 फरवरी को प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर धरना देगी.
 
उन्होंने कहा, “बिहार में कानून नाम की अब कोई चीज नहीं रह जाने की स्थिति में यहां राष्ट्रपति शासन के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता है.”