चंडीगढ़. पंजाब के डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल ने ऑर्बिट की बसों को सड़कों से हटाने का आदेश दिया है. बुधवार को इस कंपनी की चलती बस में 14 साल की नाबालिग लड़की के साथ छेड़छाड़ के बाद नीचे फेंक दिया गया था जिससे उसकी मौत हो गई. घटना के बाद से पंजाब की अकाली-बीजेपी सरकार भारी विरोध-प्रदर्शन का सामना कर रही है.

बादल ने कहा है कि ऑर्बिट बस सेवा के कर्मचारियों को पहले प्रशिक्षण दिया जाएगा. प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा होने तक बसें सड़कों पर नहीं चलेंगी. गौरतलब है कि बस ऑर्बिट एविएशन कंपनी की थी और इसके मालिक सुखबीर सिंह बादल हैं. सुखबीर सिंह बादल प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के बेटे हैं. 

वहीं पंजाब सरकार ने पीड़िता के परिवार को 20 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की थी, लेकिन परिवार ने इस सहायता को यह कहते हुए ठुकरा दिया कि ‘उन्हें समझौता नहीं, इंसाफ चाहिए.’  परिवार वालों ने अभी तक मृत लड़की की अंत्येष्टि नहीं की है. लड़की के पिता ने सुखबीर सिंह बादल पर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है.