फैजाबाद. उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में अपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित करते हुए एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र की मोदी सरकार को दलित और मुसलमान विरोधी करार दिया है.

हैदराबाद यूनिवर्सिटी में छात्र रोहित वेमुला की मौत पर सियासत को नाटक करार देते हुए ओवैसी ने कहा कि सच्चाई यह है कि कोई अंबेडकर को लेकर पार्टियों का सम्मान फर्जी है. रोहित ने इसलिए आत्महत्या की कि शैक्षणि‍क संस्थानों में अगड़ी जाति के लोग दलितों को दबाने की कोशि‍श करते हैं.

‘ISIS के नाम पर युवाओं को अरेस्ट कर रही सरकार

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जब लखनऊ आए तो भाषण के दौरान भावुक हो गए. एक मिनट के लिए चुप हो गए. मुझे तो ऐसा लगा जैसे फिल्म ‘मुगल-ए-आजम’ का कोई सीन चल रहा हो. ओवैसी ने आरोप लगाया कि सरकार दूसरे जरूरी मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए ही आईएसआईएस  के नाम पर देशभर से युवाओं को हिरासत में ले रही है.

अखिलेश सरकार पर साधा निशाना

प्रदेश की अखि‍लेश सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि यूपी की सपा सरकार ने मुझे राज्य में आने से रोकने का प्रयास किया. उन्होंने सारे जतन लगा लिए ताकि वह यह सुनिश्चि‍त कर सकें कि मैं अपनी रैली में गरीबों, मुलसमानों और दलितों का मुद्देा नहीं उठाऊं. अगर लोहिया आज जिंदा होते तो वह मेरा हाथ पकड़कर आज मुझे यहां लाते. एआईएमआईएम चीफ ने कहा कि उन्हें उत्तर प्रदेश आने से कोई नहीं रोक सकता है.

2017 में नहीं रहेगी बाप-बेटे की सरकार

ओवैसी ने आगे कहा कि राज्य में शासन के नाम पर मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव दोनों ड्रामा कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि एक दिन पिता कहते हैं कि बेटा काम नहीं कर रहा, दूसरे दिन बेटा कहता है कि सरकार बहुत अच्छा काम कर रही है. 2017 में राज्य में किसी बाप-बेटे की सरकार नहीं होगी.