कोलकाता. स्वराज अभियान के नेता प्रशांत भूषण ने कहा है कि उनके संगठन का अभी तत्काल चुनावी राजनीति में आने को कोई इरादा नहीं है. भूषण ने देश में लोकतांत्रिक सुधार और चुनाव सुधार के लिए बड़े पैमाने पर जनांदोलन का आह्वान किया. ‘भ्रष्टाचार से लड़ाई-चुनाव सुधार के जरिए’ विषय पर आयोजित एक जनसभा में उन्होंने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर भी हमला बोला. उन्होंने ममता पर लोगों के साथ धोखा करने का आरोप लगाया. 
 
आम आदमी पार्टी (आप) द्वारा निष्कासित किए जाने के बाद प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव ने ‘स्वराज अभियान’ की बुनियाद डाली थी. इस बात की चर्चा हो रही है कि अभियान 2017 के पंजाब विधानसभा चुनाव में हिस्सा ले सकता है. लेकिन, भूषण ने फिलहाल इससे इनकार किया है.
 
भूषण ने कहा, “हमने हमेशा कहा है कि स्वराज अभियान गैर राजनैतिक संगठन नहीं है. लेकिन, चुनाव में उतरने से पहले हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हम अपने संगठन को लोकतांत्रिक, पारदर्शी और जवाबदेही के मामलों में तय लक्ष्यों तक ले जाएं.”
 
उन्होंने कहा, “हमारा अभी राजनैतिक पार्टी के गठन का कोई इरादा नहीं है.” उन्होंने कहा कि उनका संगठन लोकतांत्रिक और चुनावी सुधारों के लिए आवाज उठा रहा है. उन्होंने कहा, “ऐसे में जब हम कोई जनांदोलन या राष्ट्रव्यापी अभियान का नेतृत्व करने में सक्षम होंगे, तब ये मुमकिन है कि हम एक राजनैतिक दल बनाएं.” उन्होंने कहा, “अगर हम राजनैतिक दल बनाते हैं तो भी स्वराज अभियान एक गैर चुनावी संगठन बना रहेगा.”