लखनऊ. इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय मिश्र ने उत्तर प्रदेश के नए लोकायुक्त पद की शपथ ली है. राज्यपाल राम नाईक ने उन्हें राजभवन में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. इस दौरान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी मौजूद थे.
 
यूपी में लोकायुक्त के नाम पर मुख्यमंत्री, विपक्ष के नेता और इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के बीच सहमति नहीं बन पाने से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने विशेषाधिकार का उपयोग करते हुए इस पद के लिए राज्य सरकार की ओर से भेजे गए पांच नामों में से न्यायमूर्ति संजय मिश्रा के नाम पर मुहर लगा दी थी.
 
सुप्रीम कोर्ट ने 16 दिसंबर को भी पांच नामों में शामिल जस्टिस वीरेंद्र सिंह के नाम पर मुहर लगाई थी, लेकिन बाद में दायर एक याचिका से उसे पता चला कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को न्यायमूर्ति वीरेंद्र सिंह का नाम पर आपत्ति थी.
 
कौन हैं संजय मिश्रा
नए लोकायुक्त न्यायमूर्ति संजय मिश्रा इलाहाबाद के मूल निवासी हैं. उनका जन्म 19 नवंबर, 1952 को हुआ था. उनकी छवि साफ-सुथरी मानी जाती है. उन्होंने दिसंबर, 1977 में अपना कॅरिअर शुरू किया था.
 
इलाहाबाद हाईकोर्ट में उनकी नियुक्ति 24 सितंबर, 2004 को हुई थी. उन्हें पहले एडिशनल जज बनाया गया. 18 अगस्त 2005 को वह पूर्णकालिक न्यायाधीश बनाए गए. इलाहाबाद में उन्होंने 18 नवंबर, 2014 तक सेवा दी. नवंबर, 2014 में वह हाईकोर्ट से रिटायर हो गए.