हरिद्वार. बाबा रामदेव एक बार फिर अपने प्रोडक्ट्स को लेकर मुसीबतों में घिरते नजर आ रहे हैं. दरअसल, भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (एएससीआई) ने पतंजलि आयुर्वेद के बालों के ऑयल प्रॉडक्ट केश कांति संबंधी विज्ञापन को भ्रामक पाया है.
 
बता दें कि हरिद्वार स्थित पतंजलि आयुर्वेद ने केश कांति के विज्ञापन में इसे ‘दोमुंहे व बाल झडऩे’ का उपचार करने करने वाला तेल बताया है. लेकिन वहीं परिषद का कहना है कि कंपनी विज्ञापन में किए गए दावों के समर्थन में कोई क्लिनिक्ल साक्ष्य पेश नहीं कर पाई है.
 
इसके साथ ही परिषद ने भारती एयरटेल, आइडिया सेल्यूलर, फ्लिपकार्ट, मायंत्रा, बजाज आटो, निसान मोटर तथा इंडिगो एयरलाइंस सहित विभिन्न कंपनियों के 37 विज्ञापन अभियानों के खिलाफ शिकायतों को भी सही पाया है. इन कंपनियों के विज्ञापन भी भ्रामक बताते हुए शिकायत की गई थी.
 
परिषद ने हेल्थकेयर श्रेणी में भ्रामक विज्ञापनों की 19 शिकायतों, दूरसंचार क्षेत्र में पांच तथा पर्सनल केयर में चार शिकायतों को सही पाया है.
 
भारती एयरटेल के 4G सेवाओं को प्रोत्साहित करने संबंधी विज्ञापनों के खिलाफ तीन शिकायतों जबकि आइडिया सेल्यूलर के खिलाफ एक शिकायत सही पाई गई.