लखनऊ: समाजवादी पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने कहा कि है कि कार्यकर्ताओं के बीच ज्यादा समय बिताने और गलती करने पर सरकार की ‘नकेल’ कसने के लिए वह साल 2012 में विधानसभा चुनाव के बाद खुद मुख्यमंत्री नहीं बने और अपने पुत्र अखिलेश को सत्ता सौंप दी.

सपा मुखिया ने समाजवादी युवा सम्मेलन में कहा कि साल 2012 में उन्होंने खुद सत्ता संभालने की बजाय अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाया, तब करीब 15 दिन तक पार्टी के वरिष्ठ नेता और कार्यकर्ता निराश दिखे थे.

उन्होंने कहा कि वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने हमसे कहा कि हमने तो चुनाव में आपके नाम पर वोट मांगे थे. सोचा था कि आप ही मुख्यमंत्री बनेंगे. इस पर हमने कहा कि ताकि आपके साथ ज्यादा समय बिता सकें और अगर सरकार कुछ गलत करेगी तो उस पर नकेल कर सकें.

सपा मुखिया ने कहा कि हमें उम्मीद नहीं थी कि अखिलेश इतना अच्छा काम करेंगे. उन्होंने हमारा घोषणापत्र उठाया और उस पर अमल शुरू किया. यादव ने बिसाहड़ा कांड का जिक्र करते हुए कहा, जिसका लड़का फौज में सीमा पर था, फायरिंग का मुकाबला कर रहा था, उसके बाप की हत्या कर दी गई. हत्या करने वाले कौन थे. मैंने तीन नाम लिए, तीनों नाम बीजेपी से संबंधित थे. हमने कहा कि अगर प्रधानमंत्री कह दें तो हम तीनों नाम भी बता देंगे.