हैदाराबाद. माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने हैदराबाद यूनिवर्सिटी मामले में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से दखल देने की अपील की. यूनिवर्सिटी में दलित शोध छात्र रोहित वेमुला ने निलंबन और सामाजिक बहिष्कार से परेशान होकर खुदकुशी कर ली थी.
 
येचुरी ने परिसर में छात्रों को संबोधित किया. इसके बाद उन्होंने कहा कि वह इस मामले में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से मिलेंगे जो कि यूनिवर्सिटी के कुलाध्यक्ष हैं. वह राष्ट्रपति से मामले में दखल देने का आग्रह करेंगे.
 
येचुरी ने कहा कि बीते कुछ सालों में हैदराबाद यूनिवर्सिटी में 12 दलित छात्र खुदकुशी कर चुके हैं. उन्होंने कहा, “हम राष्ट्रपति से मिलेंगे और उनसे पूछेंगे कि किस आधार पर उन्होंने बीते साल हैदराबाद यूनिवर्सिटी को सर्वश्रेष्ठ यूनिवर्सिटी का पुरस्कार दिया था जबकि यहां ये सब हो रहा है.”
 
येचुरी ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय की जांच आंख में धूल झोंकने के समान है. इस मामले की निष्पक्ष जांच, या तो सीबीआई या न्यायिक जांच, होनी चाहिए. उन्होंने रोहित की खुदकुशी को साजिश के तहत हत्या बताया.
 
उन्होंने कहा कि यह यूनिवर्सिटियों को ‘हिंदू राष्ट्र’ की अवधारणा का समर्थन करने और इसे आगे बढ़ाने के लिए किए जा रहे वृहत्तर प्रयासों का नतीजा है. यह असहिष्णुता का हिस्सा है जो कि खुद ही भारत को धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र से असहिष्णु और फासीवादी हिंदू राष्ट्र बनाने के व्यापक मुद्दे का हिस्सा है.