लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने हैदराबाद यूनिवर्सिटी के दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या की घटना को अत्यन्त ही दर्दनाक और शर्मनाक बताते हुए कहा कि इस केस में जिम्मेदार लोगों पर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए.

मायावती ने कहा कि दलित समाज को न्याय मिलना और मुश्किल होता जा रहा है. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार और उसके वरिष्ठ मंत्रियों द्वारा अन्याय और प्रताड़ना का शिकार बनाए जाने के कारण ही दलित शोधार्थी रोहित वेमुला आत्महत्या के लिए मजबूर हुआ. सरकार के मंत्रियों का ऐसा जनतंत्र विरोधी आचरण निंदनीय है.

बसपा प्रमुख ने कहा कि केन्द्र में नरेन्द्र मोदी सरकार के आने के बाद से पूरे देश में दलितों, पिछडों, धार्मिक अल्पसंख्यकों पर खासकर मुस्लिम और ईसाई समाज के लोगों के खिलाफ, जुल्म ज्यायदती और अन्याय की घटनाएं बढ़ी हैं.

उन्होंने कहा कि इन्हीं कारणों से आजादी के बाद भारत में पहली बार ऐसा गलत माहौल है कि बीजेपी के मंत्रीगण संगठित होकर अपने आचार व्यवहार से संवैधानिक मान मर्यादाओं का खुलेआम माखौल उड़ा रहे हैं. जले पर नमक छिड़कने के लिए प्रधानमंत्री ने संविधान की शपथ लेने वाले मंत्रियों को बिल्कुल ही बेलगाम छोड़ दिया है.