मेरठ. उत्तर प्रदेश में मेरठ जिले के किला परीक्षित गढ़ कस्बे के तेल व्यापारी अंशुल अग्रवाल की हत्या के बाद लोगों में प्रशासन के खिलाफ गुस्सा है. अंशुल की दो दिन पहले बदमाशों ने लूट के बाद गोली मारकर हत्या कर दी थी. इस मामले में पुलिस अभी तक बदमाशों को नहीं पकड़ पाई है.

परीक्षित गढ़ वासियों ने निकाला कैंडिल मार्च

वहीं, कस्बे में अंशुल की मौत के बाद कई दिनों से मार्किट बंद है. अंशुल की मौत के बाद आज कस्बे में लोगों ने कैंडल मार्च निकाल कर प्रशासन से जल्द से जल्द दोषियों को पकड़ने की मांग की है.

बता दें कि किला परीक्षितगढ़ कस्बे के निवासी तेल व्यापारी अंशुल किठौर इलाके के व्यापारियों से पैसे लेकर अपने घर वापस लौट रहे थे, तभी किठौर रोड पर पहले से ही घात लगाये बैठे हथियार बंद बदमाशों ने पहले अंशुल की कार को ओवरटेक करके रोक लिया. उसके बाद बदमाशों ने कई गोलिया अंशुल के सीने में दाग दी.

मांगी गई थी रंगदारी

करीब एक साल पहले अंशुल के बड़े भाई मनोज अग्रवाल को राहुल खट्टर के नाम से एक पत्र मिला था, जिसमें उनसे 30 लाख की रंगदारी मांगी गई थी. पुलिस ने मामले की छानबीन भी की लेकिन इस बीच राहुल का एनकाउंटर कर दिया और बाद में मामला ठंडे बस्ते में चला गया. अब इस हत्या को मांगी गई इस रंगदारी से भी जोड़कर देखा जा रहा है.