लखनऊ. आरएसएस से जुड़े मुस्लिम राष्‍ट्रीय मंच (एमआरएम) ने देशभर के मदरसों को नसीहत दी है कि अपने-अपने कैंपस में 26 जनवरी को तिरंगा जरूर फहराएं. दारूल उलूम देवबंद ने इसका विरोध किया है. पलटवार में पूछा है कि क्या संघ नागपुर के अपने मुख्यालय पर तिरंगा फहराता है? एमआरएम ने इसके लिए देशभर में मदरसा को पत्र भी लिखा है.
 
पत्र में एमआरएम ने क्या लिखा 
मुस्लिम राष्‍ट्रीय मंच के यूपी कन्वेनर मोरध्‍वज सिंह ने बताया कि तिरंगा फहराने का कैंपेन पूरे देश में चलाया जाएगा. देवबंद और नदवा को पत्र लिखकर कैंपेन में शामिल होने की गुजारिश की गई है. उनसे मुस्लिम कम्युनिटी में 26 जनवरी, 15 अगस्त और गांधी जयंती को लेकर अवेयरनेस फैलाने को भी कहा गया है.
 
दारूल उलूम ने किया पलटवार 
देवबंद के प्रेस सचिव मौलाना अशरफ उस्‍मानी ने एतराज जताते हुए कहा कि क्‍या आरएसएस नागपुर में अपने हेडक्वॉर्टर और ऑफिस में तिरंगा फहराएगा? क्‍या आरएसएस राष्‍ट्रगान में यकीन रखता है? संघ को किसी ने यह हक नहीं दिया कि वह मदरसों को ऐसी नसीहत दे. यह मदरसों का अपना हक है कि वे किसी राष्ट्रीय पर्व पर तिरंगा फहराना चाहते हैं या नहीं. स्वतंत्रता संग्राम में मदरसों के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता. आरएसएस का स्वतंत्रता की लड़ाई से कोई लेना-देना नहीं है. लिहाजा उन पर किसी तरह का दबाव बनाया जाना गलत है.
 
MRM 20-21 जनवरी को करेगा बैठक 
मुस्लिम राष्‍ट्रीय मंच इसे लेकर 20 और 21 जनवरी को वाराणसी में एक मीटिंग भी करने वाला है. इसने कैंपेन का नाम रखा है झंडा फहरानी. इस मीटिंग में उन मदरसों की लिस्टिंग की जाएगी, जिन्हें झंडा फहराने के निर्देश वाला खत नहीं पहुंचाया गया है. यह जानकारी एमआरएम के यूपी संयोजक मेराजध्‍वज सिंह ने दी.