मुंबई. शहर के 136 साल पुराने हैनकॉक पुल को तोड़ने का काम शुरू हो गया है. इस पुल के पुर्ननिर्माण की वजह से 150 लोकल ट्रेन सेवाए और 42 लंबी दूरी की ट्रेन सेवाएं बाधित रहेंगी.

बताया जा रहा है कि इतने बड़े पैमाने पर रेल सेवा ठप्प होने से रेलवे को करीब 8 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ सकता है. सिस्टमैटिक तरीके से ब्रिज का एक एक पुर्जा निकालने की योजना बना ली गई है.

जर्जर हो चुका है पुल-बीएससी

बीएमसी खुद चाहती थी कि इस पुल को तोड़ दिया जाए, क्योंकि ऐसा नहीं करने पर कभी भी एक बड़ा हादसा हो सकता था. पुल के नीचे से रोजाना बड़ी संख्या में लोकल ट्रेनें और लंबी दूरियों की गाड़ियां गुजरती हैं और पुल तोड़ने के दरम्यान किसी तरह की दुर्घटना ना हो इसे ध्यान में रखते हुए पुल को तोड़ने का एक ब्लूप्रिंट भी तैयार किया गया है.

18 घंटे का मेगा ब्लॉक

बता दें कि शनिवार रात करीब 12 बजकर 20 मिनट से लेकर रविवार शाम साढ़े 6 बजे तक यानि 18 घंटे इस ट्रैक पर मेगा ब्लॉक रहेगा जो कि मुंबई में अब तक सबसे लंबा मेगा ब्लॉक होगा.

मुंबई का सबसे पुराना पुल है हैनकॉक

हैनकॉक पुल का नाम कर्नल एच.एफ. हैनकॉक के नाम पर रखा गया था, जो 1877-78 तक बृहन्मुंबई नगर निगम के अध्यक्ष रहे थे. पुल की जर्जर हालत को देखते हुए इसे गिराने का फैसला लिया गया है।. मुंबई के भायखला और सैंडहर्स्ट रोड को जोड़ने वाला यह पुल 1879 में बनाया था जिसका 1923 में पुर्ननिर्माण किया गया था.