श्रीनगर. हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के कट्टरपंथी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने कहा कि आतंकी संगठन आईएस इस्लाम का नाम बदनाम कर रहा है. उन्होंने कहा कि आईएस निहत्थे लोगों का कत्ल करते हैं और इस्लाम लोगों के कत्ल करने की इजाजत नहीं देता. उनके कार्यक्रमों में शिरकत करने की भी इस्लाम इजाजत नहीं देता.
 
‘इस्लाम को बदनाम कर रहा है ISIS’
उन्होंने कश्मीर के कुछ नौजवानों के आईएस का झंडा लहराने की निंदा की है. उन्होंने आगे कहा कि आईएस वाले इस्लाम का नाम बदनाम करते हैं और निहत्थे लोगों का कत्ल करते हैं. इसकी इस्लाम इजाजत नहीं देता. इसलिए उनके झंडे लहराने और उनके कार्यक्रमों में शिरकत करने की इस्लाम इजाजत नहीं देता.
 
‘कश्मीर की समस्या सुलझाने की पेशकश नहीं दिखी’
उन्होंने कहा, “उनका संगठन भारत और पाकिस्तान के बीच सुखद और मैत्रीपूर्ण संबधों के खिलाफ नहीं है. लेकिन कश्मीर मुद्दा जल्द सुलझे. उन्होंने कहा कि अब तक दोनों देशों के बीच 150 बार से ज्यादा बार बातचीत हुई है लेकिन कश्मीर की समस्या को सुलझाने को लेकर कोई पेशकश नहीं दिखी. इसलिए हमें इस तरह की बातचीत से कोई दिलचस्पी नहीं है.” 
 
‘बातचीत में आलू-प्याज न खरीदें’
अलगाववादी नेता ने कहा कि कश्मीरियों को भारत और पाकिस्तान बातचीत से कोई समस्या नहीं है लेकिन कश्मीरियों को यह बिल्कुल स्वीकार्य नहीं है कि दोनों देश उनकी इच्छाओं और त्याग को नजरअंदाज करें और आलू, प्याज की बात न करें. उन्होंने आगे कहा कि भारत और पाकिस्तान को यह वास्विकता अपने मन में रखनी चाहिए कि मुद्दे का असली पक्ष इसकी जनता है.