बाराबंकी. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जनपद में रविवार सुबह डीएम ऑफिस के सामने किसान आशाराम ने पेड़ से लटक कर अपनी जान दे दी. किसान ने फसल बर्बाद होने की वजह से अपनी जान दे दी. पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने इस मामले में जांच की बात कही है. अचानक हुई इस घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया.

पुलिस के अनुसार, हैदरगढ़ के तहसील निवासी किसान 36 वर्षीय आशाराम अपने परिवार के साथ रहता था. रविवार सुबह आशाराम कलेक्ट्रेट तिराहे के पास डीएम आफिस के सामने लगे पेड़ पर चढ़ गया. बताया जाता है कि मिनटों में उसने अपने गमछे के सहारे लटक कर अपनी जान दे दी.

सूचना पाकर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे. पुलिस ने छानबीन कर किसान के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. चर्चा है कि फसल की बर्बादी और कर्ज के बोझ की वजह से किसान ने आत्महत्या की है. 

आशाराम ने डीएम के नाम संबोधित दो पेज के सुसाइड नोट में सूदखोरों के दबाव की बात लिखने के साथ ही सीएम से अपने अंतिम संस्कार में शामिल होने का आग्रह भी किया है.