नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश के लोकायुक्त वीरेंद्र सिंह के शपथ ग्रहण कार्यक्रम पर रोक अभी भी जारी है. इस मामले पर अब अगली सुनवाई 19 जनवरी को होगी.

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की बेंच ने मामले को मुख्य बेंच भेज दिया है. अब जस्टिस रंजन गोगई की मुख्य बेंच में 19 जनवरी को यूपी लोकायुक्त के अपॉइंटमेंट पर सुनवाई होगी.

वीरेंद्र सिंह को खुद सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश का नया लोकायुक्त नियुक्त किया था. नियुक्ति के बाद वकील सच्चिदानंद गुप्ता ने पीआईएल डालकर कोर्ट को बताया कि जस्टिस वीरेंद्र की नियुक्ति को लेकर चयन समिति के सदस्य हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस ने आपत्ति जाहिर की थी.

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस वीरेंद्र को लोकायुक्त बनाने के अपने ही फैसले पर फिलहाल रोक लगा रखी है. सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार से सफाई मांगते हुए उनके शपथ ग्रहण को फिलहाल टाल दिया है. इस मामले की अगली 19 मई को होनी है.

कौन हैं जस्टिस वीरेन्द्र सिंह

सुप्रीम कोर्ट को राज्य सरकार की तरफ से सौंपे गए पांच नामों में जस्टिस वीरेंद्र सिंह का भी नाम था. जस्टिस सिंह यूपी के ही मेरठ जिले के रहने वाले हैं और साल 2009 से 2011 तक इलाहबाद हाईकोर्ट के जज रह चुके हैं.