वेटिकन सिटी. पोप फ्रांसिस ने खुलासा किया कि बचपन में उनका सपना बड़ा होकर एक कसाई बनने का था. यही नहीं, वे जब अपनी मां और दादी के साथ बाजार जाते थे, तो कसाइयों के काम की प्रशंसा करते नहीं थकते थे. एफे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चों का गाना बजाने वालों के एक सदस्य द्वारा किए गए सवाल के जवाब में वेटिकन सिटी में पोप ने बचपन के इस सपने का खुलासा किया.
 
पोप ने कहा कि वह एक कसाई बनना चाहते थे, जो अपने चाकू का इस्तेमाल एक कला की तरह करता है, जिसकी बचपन में वह बेहद प्रशंसा करते थे.
 
पोप ने कहा कि मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि कभी रोमन कैथलिकों का लीडर बनूंगा. मैंने कभी भी खुद को फेमस नहीं माना. खुद को फेमस मानना गलकफहमी होती है. मैं हमेशा मानता हूं कि मैं एक जिम्मेदार पोजिशन पर हूं, जिसका मुझे ख्याल रखना है.