श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में बुधवार शाम से सुरक्षा बलों और छिपे हुए आतंकवादियों के बीच गोलीबारी गुरूवार सुबह खत्म हो गई. इस बात की जानकारी अधिकारियों ने दी. सुबह पांच बजे आतंकियों ने भागने की कोशिश की लेकिन आर्मी की फायरिंग में दोनों मारे गए.
 
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दोनों आंतकवादियों में एक हिजबुल मुजाहिदीन का शीर्ष कमांडर बुरहान था. जो स्थानीय है और एक पाकिस्तान का है. 
 
सुरक्षा बल के एक अधिकारी ने बताया, “खुफिया जानकारी मिली थी कि दो से तीन आतंकवादी पुलवामा जिले के गुसू गांव में छिपे हुए हैं. सुरक्षा बल के जवान बुधवार की शाम जब उन आतंकवादियों की खोज में गांव के करीब पहुंचे तो छिपे हुए आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी शुरू कर दी.”
 
अधिकारी ने बताया, “इसके बाद इलाके में सुरक्षा बल और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई. बचकर निकलने वाले सभी रास्तों को अतिरिक्त जवानों की मदद से बंद कर दिया गया है ताकि आतंकवादी अंधेरे का फायदा उठाकर भाग न सकें.” इसके बाद दोनों आतंकवादियों को मार गिराया.
 
बुरहान स्थानीय आतंकवादी है और अनेक आतंकवादी हमलों, जिसमें कई नागरिक और सुरक्षा बल के जवान मारे गए, में संलिप्तता का आरोपी है. सुरक्षा बल द्वारा गुसू में घेर लिए गए आतंकवादियों में उसके भी होने की आशंका है.