तिरूवनंतपुरम. देश में बढ़ती असहिष्णुता पर बहस के बीच संगीतकार डॉ एल सुब्रहमण्यम ने कहा कि भारत दुनिया के सबसे सहिष्णु देशों में एक है. उन्होंने कहा कि एक दो घटनाओं से भारत असहिष्णु नहीं हो जाता, भारत ने अतीत में कई हमलों को बर्दाशत किया है और यह देश सहिष्णुता का खुद में एक उदाहरण है.
 
उन्होंने देश में असहिष्णुता पर बहस के बारे में कहा, यहां, कोई भी व्यक्ति किसी के बारे में भी कह सकता है और यह प्रसारित हो सकता है और अखबारों में प्रकाशित हो सकता है. यह खुद ही देश में सहिष्णुता को दिखाता है. पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित संगीतज्ञ ने कहा कि उन्होंने कुछ ऐसे देशों में कार्यक्रम किया जहां, ”आप एक शब्द कहते हैं और लोग लापता हो जाते हैं.”
 
सुब्रहमण्यम अपनी गायिका पत्नी कविता कृष्णमूर्ति के साथ लक्ष्मीनारायण वैश्विक संगीत उत्सव में कार्यक्रम पेश करने के लिए शहर में आए थे. उन्होंने कहा कि एक-दो छिटपुट घटनाओं को लेकर किसी देश को असहिष्णु नहीं कहा जा सकता. हम बहुत सुसंस्कृत हैं और हमें अपने देश को शक्तिशाली बनाने पर ध्यान देना चाहिए.
 
पाकिस्तानी गायक गुलाम अली के भारत में कार्यक्रम रद्द करने की हालिया घटना पर उन्होंने कहा कि अली उनके दोस्तों में शामिल हैं और उन्होंने इससे पहले देश में कई बार कार्यक्रम पेश किया है. 68 वर्षीय संगीतकार ने संस्कृति के क्षेत्र में योगदान को लेकर केरल की सराहना करते हुए कहा कि यह एक ऐसा स्थान है जिसने संगीतकार स्वाति तिरूनल और पेंटर राजा रवि वर्मा जैसे कलाकार दिए हैं.