नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने कहा कि सार्वजनिक परिवहन में सिर्फ पर्यावरण अनुकूल वाहनों के उपयोग की हर संभव कोशिश की जाएगी. यह बात सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कही, जिन्होंने यहां प्रथम अंतर्राष्ट्रीय इलेक्ट्रिक वाहन एक्सपो का उद्घाटन किया.
 
उद्घाटन के बाद गडकरी ने कहा कि प्रदूषण कम करने के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं, जैसे कि मोटर वाहन अधिनियम में ई-वाहन को शामिल किया गया. गडकरी ने कहा, “मोटर वाहन (संशोधन विधेयक-2015) को पारित कर सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने ई-वाहन, ई-ठेले, ई-रिक्शा को मोटर वाहन अधिनियम-1988 के दायरे में शामिल कर लिया है.”
 
मंत्री के मुताबिक, एक्सपो राष्ट्रीय इलेक्ट्रिक वाहन मिशन योजना (एनईएमएमपी) के अनुरूप है, जिसका मकसद 2020 तक 60-70 लाख इलेक्ट्रिक या हाइब्रिड वाहन सड़क पर लाना है. गडकरी ने कहा, “अगले 2-3 साल में कौशल विकास मंत्रालय दो करोड़ चालकों को ई-रिक्शा चलाने का प्रशिक्षण देगा, जिससे दो करोड़ परिवारों को जीविका भी मिल जाएगी.” चार दिवसीय एक्सपो यहां के प्रगति मैदान में 27 दिसंबर तक जारी है.
 
100 से अधिक भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय कंपनियां एक्सपो में हिस्सा ले रही हैं. चीन, जर्मनी, स्वीडन, जापान और अन्य देशों के 500 से अधिक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी एक्सपो में पहुंच रहे हैं.