कोलकाता. पश्चिम बंगाल के मालदा में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के दो मंत्री जमीन का पट्टा बांटने से जुड़े एक कार्यक्रम में भिड़ गए, जिसके बाद पार्टी ने दोनों को चेतावनी दी है.

बताया जा रहा है कि शरणार्थी पुनर्वास विभाग मंत्री साबित्री मित्रा ने ओल्ड माल्दा और इंग्लिश बाजार उप-संभागों में रह रहे शरणार्थियों को पट्टा बांटने के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया था.

कार्यक्रम में लाभार्थियों के बीच पट्टे बांटे जा रहे थे, उसी दौरान खाद्य प्रसंस्करण मंत्री कृष्णेंद्र चौधरी कथित रूप से मंच पर आ गए और उन्होंने वहां मौजूद उप-संभागीय अधिकारियों से पूछा कि उन्हें बताए बिना कार्यक्रम का आयोजन क्यों किया गया है.

कार्यक्रम में चौधरी ने कहा कि न उन्हें और न ही स्थानीय पार्षद को इस कार्यक्रम की सूचना दी गई और दावा किया कि पट्टे इस तरह नहीं वितरित किए जा सकते, लेकिन मित्रा ने पट्टा बांटने के इस कदम का बचाव किया और कहा कि चौधरी को इसकी सूचना दी गई थी.

उन्होंने कहा कि कृष्णेन्द्र चौधरी ने अधिकारियों को धमकी दी है, उन्हें ऐसा क्यों करना पड़ा ?  मैंने तो उन्हें सूचना दी थी. मामला इतना बढ़ गया कि  बाद में, इंगलिश बाजार नगरपालिाका के लाभार्थियों को पट्टा दिए बगैर ही कार्यक्रम बहाल हुआ.

जब दोनों मंत्रियों के बीच भिड़ने की ये घटना टीवी और इंटरनेट पर वायरल हो गई, तो पार्टी शीर्ष नेतृत्व ने कड़ी आपत्ति जताते हुए और जिले के पर्यवेक्षक सांसद सुबेंधु अधिकारी से दोनों मंत्रियों को चेतावनी जारी करने का आदेश दिया.