जींद. प्रदेश के जाटों ने आरक्षण को लेकर लड़ी जाने वाली लड़ाई को एक झंड़े और एक बैनर के नीचे लडने का ऐलान करते हुए 15 फरवरी को हरियाणा बंद करने की घोषणा की है. रैली को संबोधित करते हुए सर्व जाट सर्व खाप प्रवक्ता सुबे सिंह समैण ने कहा कि देश व प्रदेश में जाटों के साथ बहुत बड़ी साजिश रचकर आरक्षण खत्म किया गया है. जाटों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है.
 
उन्होंने कहा कि सरकार ने जाटों के साथ विश्वासघात किया है. इस समय में जाटों को एकजुट होकर संयम से लड़ाई लडनी होगी. जाट विभिन्न मंचों से अपनी लड़ाई लड़ रहे है जिससे यह आरक्षण की लड़ाई कमजोर हो रही है. समैण ने कहा कि अब सभी जाट इस संगठन के बैनर के नीचे संगठित होकर आरक्षण की लड़ाई लडेंगे. उन्होने घोषणा करते हुए कहा कि वे 15 फरवरी को हरियाणा बंद करेंगे.
 
इस दिन रेल, बसों को रोकने के अलावा जाट समाज सड़को पर आकर दुकानदारों से दुकान बंद करने की अपील करेंगे व सभी व्यापारिक संस्थान बंद करवाएंगे. समैण ने कहा कि अगर इस सांकेतिक हड़ताल से उस दिन सरकार नहीं मानी तो वे उसी दिन अपने आगामी आंदोलन की घोषणा कर देंगे.
 
अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष धर्मपाल छौत ने अपने संबोधन में सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि बीजेपी जाटों के नरम रूख को उनकी कमजोरी ना समझे. आरक्षण को लेकर जाटों के तीन युवाओं ने बलिदान दिया है और उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. जाट आरक्षण लेकर रहेंगे.