लखनऊ. यूनेस्को के क्रिएटिव सिटीज नेटवर्क के तहत काशी के संगीत को ‘सिटीज ऑफ म्यूजिक’ की लिस्ट में शामिल कर लिया है. इससे वाराणसी को एक नई पहचान मिली है.
 
इस बारे में वाराणसी के मेयर रामगोपाल मोहले ने बताते हुए कहा है कि यूनेस्को का एक फील्ड ऑफ एक्सेलेंस प्लान है. जिसके तहत शहर को नई पहचान मिली है इससे काशी के संगीत को पूरी दूनिया में एक नई पहचान मिलेगी और विदेश में रह रहे लोगों को यहां की प्राचीन संस्कृति को जानने-समझने में भी आसानी होगी. 
 
क्रिएटिव सिटीज नेटवर्क में शामिल होने से काशी को कई फायदे होंगे जैसे यहां के स्थानीय संगीतकार अब दूसरे देशों में भी जाकर अपने हुनर को दिखा सकेंगे, काशी पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, काशी में अंतरराष्ट्रीय स्तर के म्यूजिक फेस्टिवल हो सकेंगे. साथ ही यूनेस्को की मदद से यहां पर कॉन्सर्ट हॉल और ऑडिटोरियम भी बनाया जाएगा.
 
बता दे यूनेस्को ने क्रिएटिव सिटीज नेटवर्क की शुरुआत साल 2006 से की थी. जिसमें फिल्म, म्यूजिक, कला, लोककला, साहित्य, डिजाइन, मीडिया आर्ट्स और गैस्ट्रॉनमी जैसे इसके अलग अलग कई भाग हैं. इन्हीं के तहत यूनेस्को दुनिया के शहरों को श्रेणीबद्ध करता है.