नई दिल्ली. देश की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स वेबसाइट फ्लिपकार्ट को ब्रिकी बढ़ाने के चक्कर में ऑफर्स और छूट देने से 2000 करोड़ रुपए का घाटा हो गया है. अक्टूबर में कंपनी ने पांच दिन का बिग बिलियन डे सेल ऑफर पेश किया था जिसकी कुल बिक्री से 48 गुना ज्यादा सेल चीन की अलीबाबा कंपनी एक दिन में कर लेती है. 
 
ऑनलाइन मार्केट में अपना दबदबा बनाए रखने के लिए फ्लिपकार्ट भी डिस्काउंट और ऑफर्स की रेस में शामिल हुई जिससे कंपनी को भारी घाटा हुआ. वित्त वर्ष 2014-15 में कंपनी को हुआ 2000 करोड़ का घाटा उसकी सेल्स के 20 फीसदी के बराबर है. फ्लिपकार्ट के कंज्यूमर पोर्टल को चलाने वाली फ्लिपकार्ट इंटरनेट को 1096.4 करोड़ रुपए का नेट लॉस हुआ है, वहीं हॉलसेल यूनिट को 836.5 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा है.  
 
फ्लिपकार्ट को पिछले साल भी 715 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था. कंपनी को ये घाटा स्नैपडील से आगे निकलने के चक्कर में छूट और ऑफर्स देने के कारण उठाना पड़ा है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि मार्केट शेयर बढ़ाने और बचाए रखने के चक्कर में फ्लिपकार्ट ऐसे ही मॉडल पर बिजनेस करता रहा तो भविष्य में उसे और नुकसान उठाना पड़ सकता है. ऊंची लॉजिस्टिक्स कॉस्ट और डिस्काउंट्स के चलते फ्लिपकार्ट को सेल्स का 30 से 50 फीसदी हिस्सा ऑपरेटिंग लॉस के तौर पर उठाना पड़ सकता है.