नई दिल्ली. दिल्ली में एक BSF जवान समेत दो ISI एजेंट्स के पकड़े जाने के बाद कोलकाता में भी कोलकाता में भी 3 ISI एजेंट्स पकड़े गए हैं. कोलकाता से पकड़ा गया एक एजेंट ममता दीदी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस से जुड़ा हुआ है. 
 
पुलिस के मुताबिक कोलकाता से पकड़े गए 3 एजेंट में एक पिता-पुत्र की जोड़ी और तीसरा उनका ही रिश्तेदार है. जानकारी के मुताबिक कोलकाता से गिरफ्तार इरशाद अंसारी बांग्लादेशी है और करीब 20 साल पहले कोलकाता आया था. अशफाक अंसारी इरशाद का बेटा है. अशफाक का जन्म कोलकाता में हुआ था लेकिन उसका वर्क परमिट बांग्लादेश का था जहां वह दो बार गया. अंसारी परिवार का जानकार जहांगीर भी इस रैकेट का हिस्सा है.
 
एक साल पहले इरशाद अंसारी अपने परिवार के साथ पाकिस्तान गया था जहां वह आईएसआई के संपर्क में आया. बाद में आईएसआई एजेंटों ने इरशाद से संपर्क किया. बाद में अशफाक और उनका रिश्तेदार जहांगीर भी इस रैकेट का हिस्सा बन गए.
अशफ़ाक़ अंसारी कोलकाता के हरिमोहन घोष कॉलेज  में तृणमूल छात्र परिषद का जनरल सेक्रेटरी था. 2 महीने पहले उसे पार्टी से निकाला गया था. इनके पास से 5 लाख भारतीय जाली नोट और सुभाष चंद्र बोस डॉक का नक्शा बरामद हुआ है. इरशाद गार्डन रीच शिप बिल्डर्स में कॉन्ट्रैक्ट लेबर की हैसियत से काम करता था. तीनों को आज कोर्ट में पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया.