नई दिल्ली: भारत और श्रीलंका के बीच दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान पर खेल गया तीसरा व आखिरी टेस्ट मैच ड्रॉ की समाप्ति कर खत्म हुआ.  अंतिम दिन भारतीय टीम को जीत के लिए 7 विकेट चटकाने थे लेकिन श्रीलंका ने शानदार खेल दिखाते हुए टेस्ट मैच के पांचवें दिन सिर्फ 2 विकेट गंवाए और 268 रन बनाए. इसके साथ ही भारतीय टीम ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज 1-0 से अपने नाम की. इससे पहले भारतीय टीम ने नागपुर में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में श्रीलंकाई टीम को पारी और 239 रनों से मात दी थी, जबकि कोलकाता में खेला गया पहला टेस्ट मैच ड्रॉ रहा था. टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को पहली पारी में शानदार 243 और दूसरी पारी में 50 रन बनाने के लिए मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजाय गया. इसके साथ ही विराट कोहली को पूरी टेस्ट सीरीज में 610 रन बनाने के लिए उन्हें मैन ऑफ द सीरीज चुना गया.

बता दें कि तीसरे टेस्ट के चौथे दिन भारत के 410 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी श्रीलंकाई टीम की शुरुआत बेहद खराब रही थी. चौथे दिन का खेल खत्म होने तक श्रीलंका ने 16 ओवर खेल कर 33 रन बनाते हुए अपने तीन विकेट गंवा दिए थे. भारत ने अपनी दूसरी पारी में पांच विकेट खोकर 246 रनों पर पारी घोषित कर दी इसके साथ ही भारतीय टीम द्वारा श्रीलंकाई टीम के सामने 410 रनों का लक्ष्य रखा गया.

लक्ष्य का पीछा करने उतरी श्रीलंका ने खराब शुरुआत करते हुए 14 रनों के स्कोर पर सदिरा समरविक्रमा के रुप में अपना पहला विकेट गंवा दिया था. समरविक्रमा का का कैच मोहम्मद शमी की गेंद पर विकेट के पीछे खडे अजिंक्य रहाणे ने पकडा़. जिसके बाद दिमुथ करुणारत्ने के रुप में रविंद्र जडेजा ने श्रीलंका को दूसरा झटका दिया था. इसके तीन गेंद बाद ही रविंद्र जडेजा ने सुरंगा लकमल को बोल्ड कर श्रीलंका को तीसरा झटका दिया था. लक्ष्य का पीछा करते हुए इस खराब शुरुआत के बाद श्रीलंका पर हार का खतरा मंडराने लगा था. श्रीलंका के चौथे दिन का खेल खत्म होने तक 33 रन पर 3 विकेट गिर चुके थे.

इस वजह से विराट-अनुष्का में आ गई थी खटास, दोनों करीब लाने में इस क्रिकेटर ने निभाई अहम भूमिका

चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद ने किया खुलासा, युवराज को इसलिए नहीं मिली टीम में जगह