सिडनी. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने पूर्व साथी खिलाड़ियों एंड्रयू साइमंड्स और मैथ्यू हेडन पर अपनी भड़ास निकाली है. क्लार्क ने इंग्लैंड में एशेज सीरीज में मिली हार के बाद संन्यास की घोषणा को लेकर हुई अपनी आलोचना पर चुप्पी तोड़ी है.

क्लार्क ने अपनी किताब ‘एशेज डायरी 2015 ’ में लिखा है कि एंड्रयू साइमंड्स ने टीवी पर मेरी कप्तानी की आलोचना की थी. मैं माफी चाहता हूं लेकिन वह किसी की कप्तानी पर टिप्पणी करने के लायक नहीं है. वह देश के लिये खेलते समय शराब पीकर आ गए थे. उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिये.

वहीं हेडन के इस आरोप का भी जवाब दिया कि अपने कैरियर की शुरूआत में वह क्लोज में फील्डिंग नहीं करना चाहते थे. उन्होंने कहा कि हेडन ने फील्डिंग के लिए एक बार पोंटिग को संन्यास लेने की धमकी भी दी थी.

क्लार्क ने कहा कि मैने पिछले 12 साल में साबित कर दिया है कि देश के लिये खेलने को मैं कितनी अहमियत देता था और मेरे लिये मेरी 389 बैगी ग्रीन के क्या मायने हैं. उन्होंने कहा कि यदि रिकी पोंटिंग मुझसे हार्बर ब्रिज से कूदने को कहते तो भी मैं कूद जाता. मुझे ऑस्ट्रेलिया के लिये खेलना उतना पसंद था.

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कोच जान बुकानन को भी आड़े हाथों लिया है जिन्होंने उन पर तंज कसा था कि वह कभी देश के लिये नहीं खेले.

बुकानन के बारे में उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि जान को बैगी ग्रीन कैप के बारे में कुछ पता है क्योंकि उन्होंने कभी पहनी नहीं. उनके पास ऐसी टीम थी कि कोई भी, मेरा कुत्ता जेरी भी, उसे विश्व विजेता बना सकता था.