मुंबई. किंग्स इलेवन पंजाब ने रविवार को वानखेड़े स्टेडियम में हुए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आठवें संस्करण के सातवें मैच में मुंबई इंडियंस को 18 रनों से हरा दिया और इस सत्र की पहली जीत हासिल कर ली. दूसरी ओर मुंबई को लगातार दूसरी हार झेलनी पड़ी. हरभजन सिंह (64) और जगदीश सुचित (नाबाद 34) के बीच सातवें विकेट के लिए हुई 100 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी के बावजूद किंग्स इलेवन से मिले 178 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए मुंबई इंडियंस टीम निर्धारित ओवरों में सात विकेट खोकर 159 रन ही बना सकी.

14 ओवरों में छह विकेट खोकर मात्र 60 रन बना सकी मुंबई एक समय बेहद शर्मनाक हार की ओर बढ़ती नजर आ रही थी, लेकिन हरभजन सिंह ने सुचित के साथ सातवें विकेट के लिए रिकॉर्ड साझेदारी कर मैच का रोमांच बनाए रखार्. किंग्स इलेवन के लिए सर्वाधिक 61 रनों की पारी खेलने वाले कप्तान जॉर्ज बेले को मैन ऑफ द मैच चुना गया. लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई की शुरुआत संदीप शर्मा, मिशेल जॉनसन और अक्षर पटेल की धारदार गेंदबाजी के आगे बेहद खराब रही. पारी की दूसरी ही गेंद पर कप्तान रोहित शर्मा खाता खोले बगैर पगबाधा हो पवेलियन लौट गए.

रोहित के साथ मुंबई का विकेट गिरने का सिलसिला शुरू हुआ तो 50 रन के भीतर उसके पांच अहम बल्लेबाज पवेलियन लौट चुके थे, जिनमें से चार बल्लेबाज तो दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सका. लगातार विकेटों को गिरने से मुंबई की रन गति भी काफी धीमी पड़ गई. 14 ओवरों में मुंबई मात्र 4.28 के औसत से 60 रन बना सकी थी, जबकि उसके छह विकेट गिर चुके थे और उन्हें जीत के लिए अभी भी 36 गेंदों में 118 रनों दरकार थी.

हार सामने खड़ी देख क्रीज पर मौजूद दो गेंदबाजों हरभजन सुचीत ने तेज शॉट खेलने शुरू किए। हरभजन ने बेहद आक्रामक रुख अपनाते हुए मुंबई के लिए सबसे तेज अर्धशतक बनाने का रिकॉर्ड बना डाला. हरभजन और सुचीत ने 15वें ओवर से 19वें ओवर के बीच पांच ओवरों में बेहद आक्रामक बल्लेबाजी करते हुए 88 रन बना डाले। हालांकि उनके इस अभूतपूर्व प्रयास के बावजूद मुंबई को आखिरी ओवर में जीत के लिए 30 रनों की दरकार रह गई थी. हरभजन की आतिशी पारी मैच का एक गेंद शेष रहते समाप्त हुई. अनुरीत सिंह की गेंद पर संदीप शर्मा ने डीप पॉइंट पर हरभजन का कैच लपका. हरभजन ने 24 गेंदों का सामना कर पांच चौके और छह छक्के लगाए. अंत तक नाबाद रहे सुचीत ने 21 गेंदों की अपनी पारी में चार चौके और दो छक्के जड़े.

मुंबई को लेकिन शुरुआती क्रम के ढह जाने का खामियाजा भुगतना पड़ा और आखिरी के छह ओवरों में 99 रन जोड़ने के बावजूद वे लक्ष्य से 18 रन पीछे रह गए. किंग्स इलेवन के लिए संदीप, जॉनसन और पटेल ने बेहद कसी हुई गेंदबाजी की. चार ओवरों में मात्र 15 रन देने वाले संदीप को जहां एक ही विकेट मिला, वहीं जॉनसन, पटेल और अनुरीत सिंह को दो-दो विकेट मिले. इससे पहले, किंग्स इलेवन ने निर्धारित 20 ओवरों में पांच विकेट के नुकसान पर 177 रन बनाए, जिसमें बेले का योगदान सर्वाधिक रहा. बेले ने 32 गेंदों में चार चौके और तीन छक्के लगाए.

अच्छी शुरुआत और फिर मध्य में लड़खड़ाने के बाद किंग्स इलेवन के बल्लेबाजों ने आखिरी दस ओवर में 90 रन जोड़े. आईपीएल के पहले मैच में असफल रहे सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग (36) ने मुरली विजय (35) के साथ खेलते हुए टीम को अच्छी शुरुआत दिलाई. दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 60 रन जोड़े. सातवें ओवर में मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने गेंदबाजी में बदलाव किया और हरभजन को ले आए. हरभजन ने अपने पहले ही ओवर की चौथी गेंद पर सहवाग को कीरन पोलार्ड के हाथों कैच कराकर टीम को पहली सफलता दिला दी.

इसके बाद बल्लेबाजी करने आए विस्फोटक बल्लेबाज ग्लेन मैक्सवेल (6) भी जल्दी ही पवेलियन लौट गए. इन दो बड़े झटकों से टीम संभली भी नहीं थी कि हरभजन ने मुरली विजय का विकेट लेकर किंग्स इलेवन को दबाव में ला दिया. इसके बाद चौथे विकेट के लिए हालांकि डेविड मिलर (24) और बेले ने 31 गेंदों में 46 रनों की साझेदारी कर टीम को सम्मानजनक स्कोर की ओर ले जाने में बड़ी भूमिका निभाई. मुंबई इंडियंस की ओर से लसिथ मलिंगा और हरभजन ने दो-दो सफलता हासिल की। जगदीशा सुचित को एक विकेट मिला.

IANS