चेन्नई. एल्बी मोर्कल (नाबाद 73) की संघर्षपूर्ण नायाब पारी के बावजूद दिल्ली डेयरडेविल्स टीम चेन्नई सुपर किंग्स के हाथों एक रन से हार गई. सुपर किंग्स से मिले 151 रनों के जवाब में डेयरडेविल्स निर्धारित 20 ओवरों में नौ विकेट खोकर 149 रन ही बना सके. 

लक्ष्य की पीछा करने उतरी डेयरडेविल्स को आशीष नेहरा ने तीसरे ओवर में ही शुरुआती दो झटके दे दिए. चिदंबरम गौतम (4) और मयंक अग्रवाल (15) की सलामी जोड़ी तीसरे ओवर में ही पवेलियन लौट गई. आईपीएल में पदार्पण मैच खेलने उतरे श्रेयष अय्यर (7) भी कुछ खास नहीं कर सके और नेहरा के तीसरे शिकार बने.

इसके बाद मोर्कल ने पिछले संस्करण के डेयरडेविल्स के सर्वोच्च स्कोरर रहे केदार जाधव (20) के साथ चौथे विकेट के लिए 48 रनों की साझेदारी कर टीम को कुछ हद तक संभाल लिया. मोहित शर्मा द्वारा लाए गए चौदहवें ओवर की पहली गेंद पर 87 के कुल योग पर जाधव का विकेट गिरने के साथ ही डेयरडेविल्स के विकेटों के गिरने का सिलसिला एकबार फिर शुरू हो गया.

सुपर किंग्स ने आखिर के आठ ओवरों में डेयरडेविल्स के सात विकेट चटकाए और 67 रन दिए. कप्तान ज्यां पॉल ड्यूमिनी (5) और आईपीएल-8 के सबसे मंहगे खिलाड़ी युवराज सिंह (9) के विकेट भी इनमें शामिल हैं. रोमांचक हो चले मुकाबले में डेयरडेविल्स को आखिरी छह गेंदों पर जीत के लिए 19 रनों की दरकार थी और पहली ही गेंद पर मोर्कल ने चौका जड़कर जीत की उम्मीदें जिंदा रखीं. इमरान ताहिर तीसरी गेंद पर रैना के हाथों लपके गए हालांकि इस बीच मोर्कल छोर बदलने में सफल रहे.

आखिरी के तीन गेदों पर अब जीत के लिए 14 रनों की दरकार थी और मोर्कल ने चौथी गेंद पर शानदार छक्का जड़ा और पांचवीं गेंद पर दो रन लिए. अब आखिरी गेंद पर डेयरडेविल्स को जीत के लिए छक्के की जरूरत थी और मोर्कल ने शानदार शॉट खेला हालांकि गेंद सीमारेखा पार करने से पहले एक टप्पा खा गई और डेयरडेविल्स जीत से एक रन पीछे रह गए.

मोर्कल ने अपनी अविस्मरणीय पारी में 55 गेंदों का सामना कर आठ चौके और एक छक्का जड़ा और अंत तक नाबाद रहे. नेहरा ने सुपर किंग्स के लिए चार ओवरों में 25 रन देकर तीन विकेट चटकाए.

इससे पहले, टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी सुपर किंग्स ने ड्वायन स्मिथ (34), फॉफ डू प्लेसिस (32) और कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (30) की बदौलत निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट गंवाकर 150 रन बनाए.