नई दिल्ली. बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर एक बार फिर बीसीसीआई के अध्यक्ष बन सकते हैं. शशांक को बीसीसीआई सचिव अनुराग ठाकुर और शरद पवार ने अपना समर्थन दिया है. बता दें कि जगमोहन डालमिया के निधन के बाद बीसीसीआई का अध्यक्ष पद खाली पद हो गया है. और शशांक मनोहर दोनों गुटों की पसंद के उम्मीदवार बन गए हैं.

पेशे से वकील शशांक मनोहर 2008 से 2011 तक बीसीसीआई के अध्यक्ष पद पर काबिज थे. शशांक मनोहर के बाद एन श्रीनिवासन बीसीसीआई के अध्यक्ष बने थे. अपनी साफ छवि और खेलों में भ्रष्टाचार के मामले में कड़े रवैये के कारण मनोहर अब पवार और ठाकुर दोनों गुटों के पसंदीदा उम्मीदवार बन गए हैं.

बीसीसीआई के एक अधिकारी का कहना है कि केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली और अनुराग ठाकुर के मनाने पर मनोहर फिर से पद संभालने को राजी हुए है. ठाकुर और पवार गुट के साथ आने से मनोहर को अब 29 में से 15 वोट मिलना तय है जो अध्यक्ष बनने के लिए जरूरी है.

इसके साथ ही एन श्रीनिवासन के अपने पसंदीदा उम्मीदवार को अध्यक्ष बनाने की उम्मीदों पर लगभग पानी फिर गया. मनोहर आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग प्रकरण के बाद से श्रीनिवासन के धुर आलोचक रहे हैं. बोर्ड के दोनों पूर्व अध्यक्षों की हाल ही में नागपुर में मुलाकात हुई थी.