नई दिल्ली. महान फुटबॉल खिलाड़ी पेले 38 साल बाद अक्टूबर में एक बार फिर भारत के दौरे पर आएंगे. पेले सुब्रतो कप-2015 के फाइनल के दौरान विशेष दूत के तौर पर राजधानी में होंगे. वीडियो संदेश के जरिये अपने दौरे की पुष्टि करते हुए पेले ने कहा, ‘मैं सुब्रतो कप में हिस्सा ले रहे युवा फुटबॉल खिलाड़ियों से मिलने और दुनिया के सबसे महानतम खेल का भारत के बच्चों के साथ जश्न मनाने को लेकर उत्सुक हूं.’
 
पेले कहा, ‘मैं भारतीय वायुसेना की कड़ी मेहनत से प्रभावित हूं, जो युवाओं को एक साथ लाने वाले इतने बड़े फुटबॉल टूर्नामेंट को निखार रही है. मैं उम्मीद करता हूं कि मेरा दौरा इन कल के चैम्पियन को प्रेरित करेगा.’ ‘ब्लैक पर्ल’ के रूप में पहचान बनाने वाले पेले ने तीन बार विश्व चैम्पियन ब्राजील टीम का हिस्सा रहे और अपने करियर में उन्होंने 1283 गोल दागे.
 
पेले ने कहा, ‘इस दौरे पर आना मेरे लिए सम्मान की बात है. भारत काफी विशेष देश है और कई साल पहले यहां के दौरे को लेकर मेरी काफी अच्छी यादें हैं, यहां के प्रशंसक शानदार हैं.’ गौरतलब है कि साल 1999 में ‘इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फुटबाल हिस्ट्री एंड स्टैटिस्टिक्स’ के पोल में पेले को शताब्दी का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना गया था.
 
इसी साल अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने उन्हें शताब्दी का सर्वश्रेष्ठ एथलीट चुना था, जबकि टाइम मैग्जीन ने उन्हें 20वीं सदी के 100 सबसे प्रभावी लोगों में शामिल किया. वर्ष 2013 में पेले को उनके करियर और विश्व खेलों में वैश्विक आइकन के तौर पर उपलब्धि के लिए फीफा बेलोन डियोर प्री डिहोनेर से नवाजा गया.
 
एयर वाइस मार्शल एमके मलिक से जब यह पूछा गया कि क्या प्रशंसक पेले का कुछ कौशल देखने की उम्मीद कर सकते हैं तो उन्होंने कहा, ‘पेले को कुछ दिन पहले अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था, इसलिए इसे लेकर बड़ा संदेह है.’ इस तरह की भी अटकलें हैं कि पेले इंडियन सुपर लीग में एटलेटिको डि कोलकाता के पहले मैच के ‘गेस्ट ऑफ ऑनर’ होंगे और पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान सौरव गांगुली से भी मिलेंगे. ब्राजील का 74 साल का यह पूर्व खिलाड़ी इससे पहले 1977 में न्यूयार्क कोसमोस के साथ मोहन बागान के खिलाफ प्रदर्शनी मैच खेलने भारत आया था.
 
एजेंसी