ऑकलैंड: अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने टेस्ट चैंपियनशिप और एकदिवसीय लीग को हरी झंडी दे दी है. न्यूजीलैंड के ऑकलैंड में हुई बैठक में आईसीसी ने टेस्ट चैंपियनशिप और एकदिवसीय लीग पर अपनी मुहर लगा दी है. आईसीसी ने टेस्ट चैंपियनशिप में शीर्ष 9 टीमें 6 श्रृंखला खेलेंगी. हर टीम कुल 6 सीरीज खेलेगी. इन टीमों को 2 साल में 6 सीरीज खेलनी होंगी. इसमें से तीन सीरीज अपने घर में और तीन सीरीज बाहर खेलने होंगे. इस चैंपियनशिप के पहले सत्र की शुरुआत 2019 विश्व के बाद होगी. टेस्ट लीग के साथ आईसीसी ने 13 टीमों की वनडे लीग का भी ऐलान किया है. इसमें टॉप 13 टीमें शामिल होंगी. इसकी शुरुआत 2020-21 में होगी, जबकि 2023 में वर्ल्ड कप के बाद इसका आयोजन 3 साल के अंतराल पर किया जाएगा. इसमें हर टीम 8 सीरीज खेलेगी जिसमें हर सीरीज तीन-तीन मैचों की होगी.

 
आईसीसी के चेयरमैन शशांक मनोहर ने इस लीग को मंजूरी मिलने पर खुशी जताई है और उन्होंने इसके लिए सबको बधाई दी. उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव को स्वीकार करने के लिए सभी सदस्यों को मैं बधाई देना चाहता हूं. उन्होंने कहा कि इससे क्रिकेट का और विस्तार और विकास होगा. उन्होंने कहा द्विपक्षीय सीरीज को महत्वपूर्ण बनाना कोई चुनौती नहीं थी, लेकिन यह पहली बार है जब इस पर असल सहमति बनी है. अब दुनिया भर के क्रिकेट फैन्स इंटरनैशनल क्रिकेट के हर मैच का लुत्फ उठा सकते हैं क्योंकि उनको पता होगा कि वनडे लीग का हर मैच विश्व कप क्वॉलिफाई के लिए महत्वपूर्ण होगा.
 
वहीं आईसीसी के सीईओ डेविड रिचर्डसन ने कहा आईसीसी बोर्ड के फैसले के मायने हैं कि हम पहले सत्र का कार्यक्रम और अंक व्यवस्था तय कर सकते हैं. आईसीसी बोर्ड ने विश्व कप 2019 तक चार दिवसीय टेस्ट के ट्रायल को मंजूरी दे दी. सदस्य देश आपसी समझौते के तहत चार दिवसीय क्रिकेट खेल सकेंगे.